Menu

 

English Edition

मुड़िया मेले की आमद के साथ ही सक्रिय हुए पेयजल माफिया Featured

गोवर्धन : गर्मी की तपिश बढ़ते ही और मुड़िया पूर्णिमा मेले की आमद के साथ ही गिरिराज धाम गोवर्धन में पेयजल माफिया सक्रिय हो चुके है और बिना लाईसेंस के ही कस्बा गोवर्धन में अवैध मिनिरल वाटर के प्लांट खोलकर दर्जनों ब्रांड की नकली बोतल, पाउच बाजार में उतार रखी है।

{googleAds}

<div style="float:left">
<script type="text/javascript"><!--
google_ad_client = "ca-pub-3667719903968848";
/* 300&#42;250 */
google_ad_slot = "6737196882";
google_ad_width = 300;
google_ad_height = 250;
//-->
</script>
<script type="text/javascript"
src="http://pagead2.googlesyndication.com/pagead/show_ads.js">
</script>
</div>
{/googleAds} इन मिनिरल वाटर प्लांट धारकों द्वारा दूषित जल को शुद्ध बताकर बेचा जा रहा है इसे पीने के बाद परिक्रमार्थियों को व क्षेत्रीय लोगों को अनेकों बीमारियों का सामना करना पड़ रहा है। स्थानीय लोगों का कहना है खाद्य विभाग के अधिकारियों के सांठ-गांठ से यह लोग सक्रिय है।

संसार भर के भक्तों की आस्था के केन्द्र विश्वविख्यात गिर्राज धाम गोवर्धन में बस एक माह बाद मिनी कुम्भ मेला लगने वाला है और खाद्य विभाग की टीम इस ओर से बिल्कुल अंजान बनी हुई है। स्थानीय लोगों का कहना है खाद्य विभाग की टीम मुड़िया पूर्णिमा मेला से महज दो चार दिन पहले ही कार्रवाई करती है लेकिन गिर्राज धाम में हमेशा ही लाखों गिर्राज भक्तों का आना लगा रहता है।

खाद्य विभाग की लापरवाही के कारण लोगों को यहीं दूषित जल पीकर बीमारी का सामना करना पड रहा है। लेकिन, बडे हैरान करने वाली बात है कि इतने पर भी खाद्य एवं स्वास्थ्य विभाग दोनों ही इस ओर से बिल्कुल अनजान बना हुआ है।

Last modified onThursday, 12 June 2014 13:04
back to top

loading...
Bookmaker with best odds http://wbetting.co.uk review site.