Menu

 


आयकर रिटर्न की संख्या में 80 फीसदी से भी अधिक की बढ़ोतरी

आयकर रिटर्न की संख्या में 80 फीसदी से भी अधिक की बढ़ोतरी

आयकर रिटर्नप्रत्यक्ष करों के संग्रह और प्रशासन से संबंधित महत्वपूर्ण आंकड़ों को सार्वजनिक तौर पर प्रस्तुत करते हुए केंद्रीय प्रत्यक्ष कर बोर्ड ने एक रिपोर्ट जारी की है। रिपोर्ट में वर्ष 2016-17 और कर निर्धारण वर्ष 2017-18 के लिए आय-वितरण आंकड़े भी जारी किए हैं।

Read in English: More than 80 per cent income tax returns filed in last four years

रिपोर्ट के मुख्य बिंदु

1. पिछले तीन वर्षों के दौरान एक करोड़ रुपये से भी अधिक की आमदनी को दर्शाने वाले करदाताओं की कुल संख्या में भी उल्लेखनीय वृद्धि दर्ज की गई है। कर निर्धारण वर्ष 2014-15 के दौरान 88,649 संस्थागत करदाताओं ने एक करोड़ रुपये से भी अधिक की आमदनी दर्शायी थी। यह आंकड़ा कर निर्धारण वर्ष 2017-18 में लगभग 60 प्रतिशत बढ़कर 1,40,139 के स्तर पर पहुंच गया। इसी तरह एक करोड़ रुपये से भी अधिक की आमदनी घोषित करने वाले व्यक्तिगत आयकरदाताओं की संख्या भी इस दौरान 48,416 से 68 प्रतिशत बढ़कर 81,344 के आंकड़े को छू गई।

2. पिछले तीन वर्षों से प्रत्यक्ष कर और सकल घरेलू उत्पाद अनुपात में निरंतर वृद्धि दर्ज की जा रही है। वित्त वर्ष 2017-18 में आंका गया 5.98 प्रतिशत का अनुपात पिछले 10 वर्षों में सर्वश्रेष्ठ रहा है।

3. पिछले चार वित्त वर्षों के दौरान दाखिल किए गए आयकर रिटर्न की संख्या में 80 प्रतिशत से भी अधिक की वृद्धि दर्ज की गई। इस दौरान दाखिल किए गए रिटर्न की संख्या वित्त वर्ष 2013-14 के 3.79 करोड़ से बढ़कर वित्त वर्ष 2017-18 में 6.85 करोड़ के स्तर पर पहुंच गई।

4. आयकर रिटर्न भरने वाले लोगों की संख्या लगभग 65 प्रतिशत बढ़कर वित्त वर्ष 2017-18 में 5.44 करोड़ के आंकड़े को छू गई। वित्त वर्ष 2013-14 में कुल 3.31 करोड़ लोगों ने आयकर रिटर्न दाखिल किए थे।

5. पिछले तीन कर निर्धारण वर्षों के दौरान सभी श्रेणियों के करदाताओं द्वारा दाखिल किए गए आयकर रिटर्न में घोषित आमदनी की राशि में भी निरंतर वृद्धि दर्ज की गई है। वित्त वर्ष 2013-14 से जुड़े कर निर्धारण वर्ष 2014-15 के दौरान आयकर रिटर्न दाखिल करने वालों ने कुल मिलाकर 26.92 लाख करोड़ रुपये की सकल आय घोषित की थी जो वर्ष 2017-18 में 67 प्रतिशत बढ़कर 44.88 लाख करोड़ रुपये के स्तर पर पहुंच गई है।

6. कॉरपोरेट करदाताओं द्वारा अदा किया गया औसत टैक्स भी कर निर्धारण वर्ष 2014-15 के 32.28 लाख रुपये से 55 प्रतिशत बढ़कर कर निर्धारण वर्ष 2017-18 में 49.95 लाख रुपये हो गया। इसी तरह व्यक्तिगत करदाताओं द्वारा अदा किया गया औसत टैक्स भी कर निर्धारण वर्ष 2014-15 के 46,377 लाख रुपये से 26 प्रतिशत बढ़कर कर निर्धारण वर्ष 2017-18 में 58,576 रुपये हो गया।

7. पिछले तीन वर्ष की इस अवधि के दौरान वेतनभोगी करदाताओं की संख्या कर निर्धारण वर्ष 2014-15 के 1.70 करोड़ से 37 प्रतिशत बढ़कर कर निर्धारण वर्ष 2017-18 में 2.33 करोड़ के स्तर पर पहुंच गई। वेतनभोगी करदाताओं द्वारा घोषित की गई औसत आमदनी भी इस दौरान 5.76 लाख रुपये से 19 प्रतिशत बढ़कर 6.84 लाख रुपये हो गई।

8. इसी अवधि के दौरान गैर वेतनभोगी व्यक्तिगत करदाताओं की संख्या 1.95 करोड़ से 19 प्रतिशत बढ़कर 2.33 करोड़ के आंकड़े को छू गई। इसी तरह घोषित औसत गैर वेतन आमदनी भी कर निर्धारण वर्ष 2014-15 के 4.11 लाख रुपये से 27 प्रतिशत बढ़कर कर निर्धारण वर्ष 2017-18 में 5.23 लाख रुपये हो गई।

Last modified onWednesday, 24 October 2018 11:52
back to top

loading...
Bookmaker with best odds http://wbetting.co.uk review site.