Menu

 


निवेश करते समय सिर्फ आठ फीसदी युवा ही उठाते हैं जोखिम

निवेश करते समय सिर्फ आठ फीसदी युवा ही उठाते हैं जोखिम

निवेश करते समय सिर्फ आठ फीसदी युवा ही उठाते हैं जोखिमभारत का निवेश बाजार युवाओं पर केंन्द्रित माना जाता है लेकिन इस मामले में यहां के युवाओं की दिलचस्पी काफी कम है। करीब एक तिहाई युवा तो सिर्फ सुरक्षित विकल्पों में ही पैसे लगाते हैं जबकि महज आठ फीसदी युवा शेयर बाजार में सीधे निवेश का जोखिम उठाते हैं।

देश के 180 शहरों में हजारों युवाओं के बीच कराए गए एक सर्वेक्षण में यह निष्कर्ष निकलकर आया है।

सर्वेक्षण के अनुसार करीब 41 फीसदी युवा बाजार में पैसे लगाते हैं लेकिन केवल आठ फीसदी ही शेयरों में सीधा निवेश करते हैं।

लगभग 29 फीसदी युवा तो किसी भी तरह का कोई निवेश नहीं करते हैं जबकि 30 फीसदी युवा सुरक्षित विकल्पों में ही निवेश करना समझदारी मानते हैं।

कमाल की बात यह है कि 88 फीसदी से अधिक 38 से 53 वर्ष उम्र के लोग कही भी निवेश जरूर करते हैं।

सर्वेक्षण में यह बात भी सामने आई कि अधिक आय वाले नौकरीपेशा लोग निवेश में ज्यादा राशि लगाते हैं और उनके विकल्प भी अलग-अलग होते हैं। उदाहरण के लिए, एक लाख रुपये महीने की कमाई करने वाले 80 फीसदी नौकरीपेशा शेयर और म्यूचुअल फंड में, 77 फीसदी बीमा उत्पाद और 80 फीसदी सावधि या आवर्ती जमा खातों में निवेश करते हैं।

दूसरी ओर, 20 से 30 हजार रुपये प्रति माह कमाने वाले 50 फीसदी लोग शेयर और म्यूचुअल फंड में जबकि 63 फीसदी बीमा उत्पाद और 62 फीसदी सावधि या आवर्ती जमा खातों में निवेश करते हैं।

लेकिन, 20 से 30 हजार रुपये प्रति माह कमाने वाले 50 फीसदी निवेशक शेयर या म्यूचुअल फंड में जबकि 62 फीसदी बीमा उत्पाद औऱ 62 फीसदी सावधि या आवर्ती जमा खातों में निवेश करते हैं।

तीनों आयामों में निवेश करने वालों युवाओं की संख्या महज 17 फीसदी है।

इसके अलावा सर्वेक्षण में एक अन्य रोचक बात यह भी निकलकर आईं कि 38 से 53 वर्ष की उम्र वाले 12 फीसदी नौकरीपेशा लोग कोई निवेश नहीं करते हैं।

क्षेत्रीय आकलन के अनुसार 61 फीसदी परिणाम के साथ निवेश के मामले में कोलकाता शहर सबसे आगे रहा।

back to top

loading...
Bookmaker with best odds http://wbetting.co.uk review site.