Menu

 

‘इश्क’ वाला ‘लव’…

‘इश्क’ वाला ‘लव’…

"क्या हुआ इतना परेशान क्यों हो...?"

"कुछ नहीं, बस ऐसे ही" यह कहते हुए भी वह कहीं और ही खोई हुई थी।

"यार, एक तो इतने दिन बाद हम मिल पाते हैं और उस पर भी तुम बता नहीं रही कि आखिर बात क्या है...?" इस बार उसने जानने के लिए जोर दिया।

"वो मेरी कोचिंग में जो साथ वाले सर हैं ना, उन्होंने कुछ दिन पहले मुझे प्रपोज किया है" ... उसने धीमे से जवाब दिया।

वह यह सुनकर एकदम से हंस पड़ा, "... तो इसमें परेशानी की क्या बात है, यह तो अच्छा ही है न क़ि मेरे अलावा भी तेरे चाहने वाले हैं..."।

"लेकिन अब देख न, वो मेरी वजह से परेशान रहेंगे, मैं नहीं चाहती कि कोई मेरे कारण परेशान रहे।"

"तो हां बोल दो उन्हें, अगर नहीं चाहती हो क़ि वह परेशान हों।"

"तुमको बस हमेशा मजाक सूझता है", थोड़ा सा झल्ला गई थी वो...।

"अरे..., तो अब तू ही बता। एक तो तू सारी दुनिया का बोझ सिर पर लेकर चलती है और अब वह तुझे चाहता है तो इसमें तेरा क्या दोष है?"

"लेकिन, अब वह मेरे मना करने पर कई दिन से चुप रहते हैं और मुझे बहुत अजीब लग रहा है" वह कहते हुए थोड़ी ज्यादा दुखी हो गई थी।

"अच्छा एक बात पूछूं? तुम उनके दुख से ही दुखी हो न या तुम्हारे मन में भी उनके लिए कुछ है। देख..., अगर ऐसी कोई दुविधा है न, तो आराम से सोच ले।" इस बार वह थोड़ा गंभीर था।

"तू पागल है क्या, तू जानता है न क़ि तेरे अलावा कोई नहीं आ सकता, मेरी ज़िंदगी में..." , अचानक से गुस्सा आ गया था उसके चेहरे पर।

"जानता हूं, मगर फिर भी मानता हूं कि अगर तुझे कोई और मुझसे ज्यादा पसंद आया तो मैं तुझे रोकूंगा नहीं...", बहुत शांत होकर जवाब दिया था उसने...।

"ओह...! यानी तुझे मेरे जाने से कोई फर्क नहीं पड़ता, तू मुझे ऐसे ही चले जाने देगा, है ना...? " उसने आंखों में झांककर पूछा था इस बार...।

"... नहीं ऐसे ही तो नहीं जाने दूंगा, सोचूंगा कि ऐसा क्या हुआ जो तुम मुझसे दूर जा रही हो, फिर अगर वाकई कोई कारण होगा, तो उस पर विचार करूंगा। लेकिन, अगर तुझे वाकई किसी दूसरे से प्यार हो गया न, तो सच में उफ़्फ भी नहीं करूंगा, कम से कम तेरे सामने तो कभी नहीं", वह कह रहा था और वो उसको सुने जा रही थी...।

"चल पागल, ऐसा कभी कुछ नहीं हो रहा..., बुद्धूराम से बातें करवा लो बस...। अच्छा...! एक बात बता, तू इत्ता समझदार कैसे हो गया है?"

"तेरे प्यार में हूं न, बस इसीलिए"

दोनों की मिली-जुली सी हंसी से सारा समां झूम सा रहा था...

Last modified onSaturday, 25 November 2017 15:30
back to top

loading...
Bookmaker with best odds http://wbetting.co.uk review site.