Logo
Print this page

भ्रमित न हों, फोन बंद होने की खबर झूठी है

भ्रमित न हों, फोन बंद होने की खबर झूठी है

भ्रमित न हों, फोन बंद होने की खबर झूठी हैदूरसंचार विभाग और भारतीय विशिष्ट पहचान प्राधिकरण ने स्पष्ट किया है कि बिना आधार सत्यापन के हासिल किए गए सिम कार्ड को बंद नहीं किया जाएगा।

Read in English: Not a single mobile phone faces disconnect threat

ध्यान रहे मीडिया के एक हिस्से में कुछ इस तरह समाचार छपे थे कि 50 करोड़ मोबाइल नंबरों को बंद किया जा सकता है। ये खबरें पूरी तरह से असत्य हैं।

बयान में स्पष्ट किया गया है कि सर्वोच्च न्यायालय ने आधार मामले में अपने फैसले में कहीं भी यह निर्देश नहीं दिया है कि आधार ईकेवाईसी के माध्यम से जारी मोबाइल नंबर बंद किए जाने हैं। सुप्रीम कोर्ट ने छह महीने के बाद दूरसंचार ग्राहकों के सभी ईकेवाईसी डेटा को हटाने के लिए भी नहीं कहा है। न्यायालय ने कहा है कि यूआईडीएआई को छह महीने से अधिक समय तक प्रमाणीकरण लॉग नहीं रखना चाहिए। इस तरह यूआईडीएआई पर प्रतिबंध है, न कि दूरसंचार कंपनियों पर। इसलिए, दूरसंचार कंपनियों को प्रमाणीकरण लॉग हटाने की कोई आवश्यकता नहीं है।

वक्तव्य में बताया गया कि सुप्रीम कोर्ट ने कानून की कमी के कारण आधार ईकेवाईसी प्रमाणीकरण प्रक्रिया के माध्यम से नए सिम कार्ड जारी करने पर रोक लगा दी है। इसमें पुराने मोबाइल फोन को निष्क्रिय करने के लिए कोई दिशानिर्देश नहीं है।

बयान में साफ कर दिया गया है कि मीडिया में दिखाई देने वाली कुछ खबरों से भ्रमित होने की आवश्यकता नहीं है।

Last modified onFriday, 19 October 2018 12:02

Related items

Developed By Rajat Varshney | Conceptualized By Dharmendra Kumar | Powered By Mediabharti Web Solutions | Copyright © 2018 Mediabharti.in.